How to write a script for film and video productions-Professional film script writing seekhe

 


How to write a script for film and video productions-Professional film script writing seekhe



 


फिल्म और वीडियो की कोई भी प्रोडक्शन शुरू करने के लिए सबसे पहले जिस जरुरी चीज़ की जरुरत है वो है स्क्रिप्ट और इसको लिखने के लिए जिस प्रोफेशनल तरीके का इस्तेमाल किया जाता है उसका ही जिक्र हम यंहा करेंगे और सीखेंगे अपने स्टोरी आईडिया को कैसे स्क्रिप्ट में रूप में बनाया जाता है।   

स्क्रिप्ट क्या होती है ?और क्यों बनाई जाती है?   

फिल्म या वीडियो प्रोडक्शन के लिए स्क्रिप्ट में कौन कौन से एलिमेंट्स  इस्तेमाल किया  जाता है ?

किसी भी आईडिया को फिल्म या वीडियो फॉर्मेट में बनाने से पहले उसको शूटिंग करना जरुरी है और शूटिंग करने के लिए सबसे जरुरी चीज़ है अच्छी स्क्रिप्ट। स्क्रिप्ट आपकी स्टोरी स्क्रीनप्ले और डायलॉग के पेपर फॉर्मेट को कहा जाता है। और स्क्रिप्ट को प्रोडक्शन टीम और आर्टिस्ट को शूटिंग की तैयारी करने  लिखा जाता है।   

कई बार कुछ डायरेक्टर या निर्माता इसकी जरुरत को अच्छे से न समझते हुए देखे जाते है और शूटिंग शुरू कर देते है जिसका परिणाम नुक्सान के अलावा उनके स्टोरी आईडिया की भी बर्बादी करता हुआ सामने आता है और लोगो में मजाक का विषय बनकर चर्चा में मशहूर होता है। इसके लिए ऐसा कभी न करे की स्क्रिप्ट को अच्छे से लिखे बिना कभी भी शूटिंग शुरू करने की गलती न करे।   

अब करियर का चुनाव करते समय आपको तीन बातो का ध्यान रखना जरुरी है। 

  • स्क्रिप्ट तैयार करने के लिए सबसे पहले अपने स्टोरी आईडिया का सिनोप्सिस यानि वन लाइनर लिखने से शुरुआत करे।  
  • वन लाइनर लिखने के बाद उसकी वन लाइन स्क्रिप्ट तैयार करे।  
  • उसके बाद स्क्रिप्ट एलिमेंट्स जोड़कर स्क्रिप्ट तैयार करे। 

स्टोरी आईडिया का वन लाइनर या सिनोप्सिस लिखने का मतलब  है की आप अपनी  का सारांश लिखेंगे। सारांश से मतलब है की आप उसको डिटेल में  हुए सिर्फ एक या दो पेज में या 300 से 350 शब्दों में पूरा सारांश लिखेंगे ताकि किसी को  दिया जा सके।  

वन लाइनर और सिनोप्सिस एक ही बात है कुछ लोग  कहते है कुछ लोग सिनोप्सिस कहते है  मतलब एक ही है।  इसको लिखने  मतलब अपना आईडिया किसी से शेयर करने से पहले उसको अपने नाम से स्क्रिप्ट राइटर एसोसिएशन में अपने नाम से रजिस्टर करवा ले ताकि जब कोई डायरेक्टर या क्लाइंट या प्रोडूसर  पसंद  उसकी स्क्रिप्ट बनाने को कहे तो आपको उसकी पूरी स्क्रिप्ट बनाने पर की गई आपकी मेहनत बर्बाद न जाए। और इसके अलावा कोई भी प्रोडूसर आपकी सिनोप्सिस देखने से पहले या  आपसे  जानना चाहेगा की क्या ये सिनोप्सिस आपके नाम से रजिस्टर है या नहीं।  

कुछ नए राइटर ये भूल कर देते है की वो सीधे ही  लिख लेते है और उसके बाद स्क्रिप्ट को राइटर एसोसिएशन में बिना रजिस्टर करवाए ही किसी को भी  देते  कई बार उनके आईडिया को दूसरे कॉपी करके  रजिस्टर करवा लेते  बेहद दुखद है पर ऐसा करने वालो की  नहीं है इसक्लये आप ऐसी  और  लिखने की भी जल्दी न करे इसके कई महत्वपूर्ण कारण है जिनकी चर्चा हम आगे  करेंगे।  

अगर आपको नहीं मालूम की सिनोप्सिस कैसे लिखे तो ये वीडियो ध्यान से पूरा देखना आपके लिए जरुरी है।


अगर आपको नहीं पता की स्क्रिप्ट को रजिस्टर कैसे करवाते है तो ये वीडियो आपके लिए जरुरी है। 

स्क्रिप्ट का सिनोप्सिस लिखने के बाद आप अब अपनी स्टोरी की वन लाइन स्क्रिप्ट तैयार करे इसके लिए आपको अपनी पूरी स्टोरी को सीन दर सीन लिखना है। यानि आप पहले सीन में क्या दिखाएंगे फिर दूसरे फिर तीसरे और फिर इसी तरह सारे सीन के क्रमानुसार लिखे। इसकी जरुरत आपको अपनी स्क्रिप्ट का बजट और डिटेलिंग  मदद करेगी। आपको  शेडूल करने में मदद करेगी। 

वन लाइन स्क्रिप्ट तैयार कर लेने के बाद आपको अब स्क्रिप्ट एलिमेंट्स लिखने है जो की स्क्रिप्ट के पुरे रूप को तैयार करेंगे ये एलिमेंट्स इन नामो से जाने जाते है। 

सीन हैडिंग 
एक्शन 
करैक्टर 
डायलॉग 
परन्थेटिकल 
ट्रांजिसशन